UP Public Service Commission / Assistant Prosecution Officer

UP Public Service Commission / Assistant Prosecution Officer results declared for preliminary examination, 260 candidates got success

एपीओ के 17 पदों पर भर्ती के लिए प्रारंभिक परीक्षा 16 फरवरी को इलाहाबाद और लखनऊ के विभिन्न केंद्रों में आयोजित की गई थी।
  • एपीओ के 17 पदों पर भर्ती के लिए प्रारंभिक परीक्षा 16 फरवरी को इलाहाबाद और लखनऊ के विभिन्न केंद्रों में आयोजित की गई थी।

45311 candidates had registered for the examination, 18784 had given the examination on February 16 at various centers in Allahabad and Lucknow.

प्रयागराज. लॉकडाउन के बीच सोमवार को उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने सहायक अभियोजन अधिकारी (एपीओ) प्रारंभिक परीक्षा 2018 का रिजल्ट जारी कर दिया। इस परीक्षा में 260 अभ्यर्थियों को सफलता मिली है। इससे पूर्व 24 फरवरी को उत्तर कुंजी जारी हुई थी।


26527 अभ्यर्थियों ने छोड़ दी थी परीक्षा

एपीओ के 17 पदों पर भर्ती के लिए प्रारंभिक परीक्षा 16 फरवरी को इलाहाबाद और लखनऊ के विभिन्न केंद्रों में आयोजित की गई थी। परीक्षा के लिए 45311 अभ्यर्थी पंजीकृत थे। इनमें से 18784 अभ्यर्थी उपस्थित थे और 26527 अभ्यर्थियों ने परीक्षा छोड़ दी थी। उत्तर कुंजी आयोग की वेबसाइट पर अपलोड कर दी गई है। परीक्षा नियंत्रक अरविंद कुमार मिश्र के अनुसार अभ्यर्थी वेबसाइट पर प्रदर्शित रिजल्ट देख सकते हैं।


कोरोना की वजह से परिणाम देर से हुआ घोषित

प्रारंभिक परीक्षा के माह भर के भीतर ही कोरोना वायरस संक्रमण तेजी से फैलने लगा और पूरे देश में लॉकडाउन घोषित कर दिया गया। लॉकडाउन के कारण आयोग में भी कामकाज ठप हो गया और एपीओ भर्ती की प्रारंभिक परीक्षा का परिणाम घोषित नहीं किया जा सका। आयोग के कैलेंडर में एपीओ की मुख्य परीक्षा 16 मई से प्रस्तावित थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

Pulwama encounterPulwama encounter

जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में बुधवार को एक आतंकवादी मारा गया जिसकी पहचान अभी नहीं की जा सकी है। श्रीनगर। जम्मू कश्मीर के पुलवामा

NEET ExamNEET Exam

2020: नीट परीक्षा की तारीख घोषित, 26 जुलाई को होगा एग्जाम नीट परीक्षा की तारीखों का इंतजार कर रहे छात्रों के लिए एक अच्छी खबर है। आज यानी कि 5

नई अंतरराष्ट्रीय अर्थव्यवस्थानई अंतरराष्ट्रीय अर्थव्यवस्था

बढ़ती अंतर्निर्भरता आज विश्व के विकसित तथा विकासशील राष्ट्रों में पारस्परिक निर्भरता में लगातार वृद्धि हो रही है। विकसित देशों को कच्चा माल खरीदने तथा तैयार माल बेचने के लिए